• Tuesday June 25,2019

यहूदी धर्म और यहूदी धर्म के बीच का अंतर

ज़ियोनवाद बनाम यहूदी धर्म

ज़ियोनवाद और यहूदी धर्म के बीच एक बड़ा अंतर है यहूदी धर्म यहूदी विश्वास का वर्णन करता है, जबकि ज़्योनिज़्म एक विशिष्ट यहूदी राज्य के पीछे दर्शन को परिभाषित करता है जो कि यहूदी लोगों के लिए विशेष रूप से भौतिक और आध्यात्मिक मातृभूमि होता है। उत्तरार्द्ध एक बहुत ही कट्टरपंथी दृष्टिकोण है, और बहुत अधिक है, खासकर अरबों में।

सभी यहूदीवादी यहूदी हैं, लेकिन सभी यहूदी ज़ियोनिस्ट नहीं हैं दुनिया के कई हिस्सों में यहूदी हैं उनमें से ज्यादातर इजरायल और अमेरिका में रहते हैं। अब ये सब निश्चित रूप से यहूदी धर्म में विश्वास करते हैं, लेकिन सभी नहीं, वे ज़ियोनिस्टों की हार्ड-लाइन एक्सक्लेस्टिस्ट विजन की सदस्यता लेंगे। 1 9वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में यहूदी लोगों की निर्वासन खत्म करने और जरूरी होकर बल से पवित्र भूमि पर वापस लौटने के लिए ज़ियोनवादी आंदोलन यूरोप में उभरा। शुरू में उन्हें यहूदी जनसंख्या के बीच बहुत कम समर्थन मिला लेकिन यहूदियों पर द्वितीय विश्व युद्ध के भयावहता के बाद कुछ धारणा पैदा हो सकती थी, जिसने उन्हें इस धारणा पर ध्यान दिया। दूसरी ओर यहूदी धर्म का अर्थ है कि यहूदी पवित्र पुस्तक, टोरा के सिद्धांतों से जीने का मतलब है। उनको जो कुछ भी हुआ वह परमेश्वर की इच्छा थी, जैसा कि टोरा के माध्यम से व्यक्त किया गया था और कभी भी किसी भी राष्ट्रीय, राजनीतिक या सांप्रदायिक एजेंडे को बनाने का प्रयास नहीं किया गया था।

यहूदी धर्म एक धर्म के रूप में वास्तव में जीवन का एक सरल तरीका है, जहां मनुष्य अपने जीवन को चुपचाप और गरिमा के साथ जीवन जीता है, जबकि पारंपरिक यहूदी अनुष्ठान जो टोरा में नियत हैं दूसरी ओर ज़ियोनवाद यहूदीों की विशिष्टता, पवित्र भूमि पर उनका अधिकार, अधिग्रहण और अन्य लोगों के कब्जे वाले भूमि पर विजय के बारे में बोलता है, जो ठीक ही उनकी खुद की है यहूदी धर्म के एक व्यवसायी के विरोध में, जिसके लिए एक यहूदी एक व्यक्ति है जो ईश्वर पर विश्वास करता है, और अपना वचन जारी रखने का प्रयास करता है, जैसा कि टोरा में उसके पास गया था। वह किसी यहूदी जाति की वंशावली के संदर्भ में नहीं सोचता है जो कि दूसरों की तुलना में अलग है।

यहूदी धर्म के एक व्यवसायी का जीवन के प्रति अधिक सुविचारित दृष्टिकोण होगा, क्योंकि वह जान पाएगा कि यहूदी इतिहास एक समृद्ध, चेकर और भव्य टेपेस्ट्री है जो कई देशों और क्षेत्रों से बाहर निकलता है। दूसरी ओर एक जियोनिस्ट अपने लोगों के बारे में बहुत कम तथ्यात्मक जानकारी होगी, लेकिन उनकी दौड़ की उत्पत्ति के बारे में एक काल्पनिक विचार है।

यहूदी लोगों या यहूदी धर्म के अनुयायियों को अक्सर यूरोपीय जातियों के हाथों से अपनी दौड़ के कारण सदियों से दमन का सामना करना पड़ा। यह विडंबना है कि यहूदियों के बीच ज़ियोनिस्ट अन्य लोगों को नफरत दिखाते हैं, अर्थात् वंचित फिलीस्तीनियों। यह इस कारण के लिए और भी विडंबनात्मक है कि एशियाई राष्ट्र आम तौर पर सदियों से यहूदियों की उपस्थिति के बहुत सहिष्णु थे।

यहूदियों की परंपराओं के अनुसार परमेश्वर ने जो काम यहूदीों के सामने किया था, वे आध्यात्मिकता और धर्मनिरपेक्षता के दायरे में मानदंड निर्धारित करने के लिए थे, और सैनिकों के रूप में सेना के रूप में, घोषणा करते हैं। सभी यहूदी धर्म में सभी आध्यात्मिकता और धार्मिकता के बारे में हैं जबकि ज़ियोनवाद नस्लवाद और विस्तारवाद के बारे में है।
सारांश:
1 यहूदी धर्म यहूदी विश्वास का वर्णन करता है ज़्योनिज़्म एक विशिष्ट यहूदी राज्य के पीछे दर्शन को परिभाषित करता है।
2। सभी यहूदी राष्ट्र यहूदी हैं, लेकिन सभी यहूदी यहूदी नहीं हैं।
3। यहूदी धर्म अध्यात्म के बारे में ज्यादा है, लेकिन जायोनवाद नस्लवाद के बारे में अधिक है।